मेरे दोस्त किस्सा ये क्या हो गया

सुना है के तु बे-वफा हो गया

दुवा बददुआ दे ये मुम्कुन नही,

मुझे तु दगा दे ये मुम्कीन नही खुदा जाने क्या माजरा हो गया,

सुना है के तु बे-वफा हो गया अगर मांग ले तु ओ जाने जिगर,

तुझे जान दे दू मै ये जान कर के हक दोस्ती का अदा हो गया,

सुना है के तु बे-वफा होगया

कयामत से कम यार ये गम नही

के तु और मै रह गये हम नहीं 

मेरा यार मुझ से जुदा हो गया,

सुना है के तु बे व-फा हो गया मेरे दोस्त किस्सा ये क्या हो गया

सुना है के तु बे-वफा हो गया     

शब्दांचा अर्थ

बेवफा= दगाबाज,जो मित्रता आदि का निर्वाह न करे

बददुआ=दुष्कामना ; शाप

दगा=विश्वासघात

मुम्कीन=शक्य

माजरा=प्रकार, मामला, विषय

जिगर= यकृत (लीवर)

कयामत=इस्लाम धर्म मान्यता अनुसार सृष्टि का अंतिम दिन

चित्रपट= दोस्ताना(१९८०)

गितकार=आनंद ब‌क्षी

संगीतकार=लक्ष्मीकांत प्यारेलाल

चित्रित= अमिताभ बच्चन,शत्रुघ्न सिन्हा,ज़िनत अमान,ई.

संकलन आणि लेखन = शेख मो.ईदरीस मो.शफी

अध्यक्ष जे.यु.सी. संगमनेर

मो.9890524092

Video Courtesy Sahil Purani Yade